Archive for the ‘My life’ Category

My life my style

January 25, 2019

जवानी के जोश में लोग अक्सर होश खो देते है
जवानी में बहुत कुछ करने की तमन्ना होती है. हर तमन्ना पे उम्मीद होती है.
जैसे जैसे समय बीतता है. और सच्चाई सामने आती है तो वो जोश ठंडा पड़ने लगता है
सारी उम्मीद धीरे धीरे खत्म होती है और उसी के साथ तमन्ना भी दम तोड़ देती है.
मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ. जवानी के जोश में बहुत सपने सजाये थे. लेकिन उन सपने पुरे करने के लिए सारी महेनत बेकार हो गयी
में अक्सर अपने आप को अकेला महसूस करता था उस वक़्त।

“शाम ढले गगन तले
हम कितने एकांकी”

हाँ. लेकिन मेने कभी हिम्मत नहीं हारी। एक के बाद एक लड़ाई लड़ता गया और कभी हारता तो फिर खड़ा होके वापस लड़ाई लड़ता।
मेने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी। एक के बाद एक सपने बिखरते गये, टूटते गये फिर भी में खड़ा रहा आरज़ू की कश्ती पे सवार होके।

कभी किसी का साथ मिला तो कभी किसी ने साथ छोड़ दिया। जब से होश संभाला तब से मेरे पिताजी, माँ, भाई सब एक एक करके साथ
छोड़ गये. लेकिन में डटा रहा ज़िंदगी की बाकि लड़ाई लड़ने के लिये। जो दोस्त थे वो भी स्वार्थी निकले हरेक जगह पे धोखा दिया फिर भी
मेने आस नहीं छोड़ी। कोई तो मिलेगा जो मुज़को समझेगा और मेरा साथ देगा इस उम्मीद में. आखिर उम्मीद पे ही ज़िंदगी कायम है.

ज़िंदगी की राहो में
रंजो ग़म के मेले हे
भीर हे क़यामत की
फिर भी हम अकेले हे

आखिर में सभी उम्मीद टूट गयी तो मेने नयी उम्मीद बनाने की कोशिश की. क्यों की में जानता हूँ की उम्मीद पे ही दुनिया है. जहां अपने ही
बेगाने निकले तो विश्वास भी किसपे करे. हर रिश्ता स्वार्थी निकला। सब को अपनी ही चिंता है और सब मुज़से ही उम्मीद लगा के बैठे है तो
में किससे उम्मीद करू? सब को अपनी ही फिकर है और अपने खुद के सपने हे. मेरे सपने और मेरी उम्मीद का कोई मूल्य नहीं है. मेरे
एक साहेब बहुत सही कह रहे थे “Who is interested in you? NOBODY is interested in you.” शायद वो सही थे.

दुनिया में तुम्हारे सपने, स्वार्थ, उम्मीद, आस में किसी को कोई दिलचश्पी नहीं है. सब अपना ही देखते है. इस स्वार्थी दुनिया में मतलबी लोग
अपने सपने में ही जीते है और हमारा सिर्फ इस्तेमाल करना जानते है. एक बार इस्तिमाल हो गया तो तुम बेकार हो उसके लिये। माँ बाप को छोड़ कर
दुनिया के हर रिश्ते सिर्फ मतलब के होते है. मेने तो कभी कभी माँ बाप का रिश्ता भी मतलब का देखा है. तुम किसी पे आस नहीं रख सकते सब
तुमसे आस रख सकते है. अगर तुम उनकी उम्मीद के बराबर नहीं निकले तो तुम स्वार्थी हो, नालायक हो. यही हालत मेरी भी हो गयी. इधर कोई आप को नहीं समझेगा आप सब को समझो। इधर कोई आप को नहीं पूछेगा आप उनको पूछो। कोई आप की भावना से साथ खेल सकता है कभी भी लेकिन अगर आप ने कोशिश की तो आप नालायक हो.

आभासी दुनिया के मतलबी लोग है इधर सब फ्री है सोशल मीडिया में. हकीकत की ज़िंदगी में किसी के पास आप के लिये समय नहीं।

“इक ऋतू आये इक ऋतू जाये
मौसम बदले ना बदले नसीब”

ज़िंदगी में बहुत ठोकर खाई, संभला में खुद ही. कोई नहीं आया मदद में. आज मेरी आखरी आस भी टूट गई तब जाके मेने ये पोस्ट
लिखना जरुरी समझा। इतनी चोट खाई की हिसाब रखना ही भूल गय, लेकिन लोगो ने हिसाब रखा. हर साथी छूट गया जो बचे हे उन्हों ने भी
सिर्फ अपना स्वार्थ ही देखा।

“ज़िंदगी एक फ़साना ऐ ग़म हे
मेरा तो इससे नाक में दम हे
तेरे कहने पे जी रहा हूँ ऐ खुदा
तुज़पे ये अहसान मेरा क्या कम हे”

बस अब ज़िंदगी के वो मुकाम पे हूँ जहां लोग आखरी सफर की राह देखते है. अब देखना ये है की वो राह भी कितनी देखनी है.

आज फिर से थोड़ा दिल भर आया तो भड़ास नीकाल दी और एक पोस्ट मेरे खुद पे भी डाल दी । चलो कल से वापस आप के लिये पोस्ट शुरु कर दूंगा।

जय हिंद
भारत माता की जय

hindi shayari

January 24, 2019

यह कह कर मेरा दुश्मन मुझे हंसता छोड़ गया

की तेरे अपने ही बहुत है तुझे रुलाने के लिये….

my favorite shayari

January 23, 2019

ज़िंदगी एक फ़साना ऐ ग़म हे
मेरा तो इससे नाक में दम हे
तेरे कहने पे जी रहा हूँ ऐ खुदा
तुज़पे ये अहसान मेरा क्या कम हे

ज़िंदगी की राहो में
रंजो ग़म के मेले हे
भीर हे क़यामत की
फिर भी हम अकेले हे

उम्र का तजुर्बा ये मिला

February 8, 2018

उम्र का तजुर्बा ये मिला
दुश्मन बढ़ते गये और दोस्त खोते गये
कदम आगे बढ़ते गए और जिंदगी खोते गये
रिश्ते बढ़ते गये और दिल छोटे होते गये
अब ऐसे मुकाम पे आ गये
की पीछे देखते हे तो ख़ुशी भी हंस रही हे
अब आस नहीं हे किसी की
सिर्फ मरने के लिये ज़िंदगी खोते रहे
– गितेश त्रिवेदी

My Poem in Gujarati

February 27, 2014

હું નડયો
જીંદગી માં બધાને  હું નડયો ,
હું હસ્યો ત્યારે પણ નડયો હું રડ્યો ત્યારે પણ નડયો
જીંદગી માં બધાને  હું નડયો ,
હું સુખી થયો ત્યારે નડ્યો હું દુઃખી થયો ત્યારે નડ્યો
જીંદગી માં બધાને  હું નડયો ,
જીંદગી માં આગળ નીકળ્યો તો નડયો બધાને
જીંદગી માં પાછળ રહી ગયો તો નડયો અમુકને ,
હું કાયર થયો તો નડયો દોસ્તોને
હું સબળ થયો તો નડયો દુશ્મનોને
જીંદગી માં બધાને  હું નડયો ,
નોકરીમાં સારું કામ કર્યું તો નડ્યો સાથીઓને
નોકરીમાં સારું કામ ના કર્યું તો નડ્યો શેઠને
વધારે કમાયો તો નડ્યો અદેખા સગા સંબધીને
ઓછુ કમાયો તો નડ્યો ઘરવાળાઓને
જીંદગી માં બધાને  હું નડયો ,
જન્મ્યો ત્યારે નડયો  જીવતા નડ્યો
બીક લાગે છે ‘ગિતેશ’ મરીશ ત્યારે પણ નડીશ આથી નથી લેવો બીજો જનમ
બધાયે કહ્યું કે તું નડ્યો પણ કોઈએ મને ના પૂછ્યું કે મને કોણ નડ્યું.

Missing of Mummy Pappa Every Moment of My Life

November 11, 2012

I lost them before 20 years back. Still I don’t forget my Mummy and Pappa. After getting knowledge of real life every day I have been missing them for every moment of life. In happy moment, I try to find out that if they would be presence then how they become happy. In my sad moment, I try to feel out that if they would be presence and knew that my sad moment how they react.

When my daughter gets high score in exams, I become happy and in next moment a thought comes in my mind that how my parent became happy of my good score in past.

When my daughter gets poor result in exams, I become unhappy and in next moment a thought comes in mind that how my parent became sad after seeing my poor results so many times.

Means, there is no moment of my life that I am not missing my Mom and Dad. Every moment of life and every day I am missing them in every incident and occasion.

When they were living with me that time I didn’t realize about struggle and never felt about SAD or unhappy moment. After losing them, I realized what is struggle and what reality of life is.

Loss of mother and father is biggest for me. I never become happy after their death. After my death, there is possibility to meet them. Due to this reason, I am always awaiting for my death. This is real fact of my life. I don’t need anything in my life. Still I am always awaiting to meet them in dream, real life or anything else chances. But I know that they will never return because nobody come back after death and due to this, I am praying to God that give death as early as possible then I might get chance to meet them.

I want to convey only one important message to my all friends that, respect your parents and try to provide them every happiness to them, otherwise you would be big looser like me.

Missing you Mummy……Pappa…